भारत में खोजा गया 1.6 अरब साल पुराना ये पौधा जानकर रह जायेंगे हैरान

0
49

जयपुर। अगर पेड़ पौधे नहीं हो तो इंसान का अस्तित्व ही नहीं बचेगा। पेड़ पौधों से ही हमें प्राणवायु ऑक्सीजन का भंडार मिलता है इसके बगैर किसी भी तरह का जीवन संभव नहीं है। दुनिया जब से बनी है तब से कई बार बन कर बिगड़ चुकी है। इसी तरह से कई चीज़ों के जीवाश्म है जो उन समय कि दुनिया का  सबूत देते है। और उसके समझन के लिए प्रकृति ने डीएनए बनाया है जिसकी मदद से उसकी पहचान की जाती है। वैज्ञानिकों ने हाल ही में भारत के मध्य प्रदेश में 1.6 अरब साल पुराना पेड़ का जीवाश्म खोजा निकाला है।

सूत्रों के मुतबिक यह पेड़ एक लाल जीवाश्म बताया जा रहा है। आपकी जानकारी के लिए बता दे कि यह जीवाश्म अभी तक पृथ्वी पर मौजूद पौधे के रूप में सबसे पुराना प्रमाण माना जा रहा है। स्वीडन के म्यूजियम ऑफ नेचुरल हिस्ट्री के शोधकर्ताओं ने यह खोज की है। वैज्ञानिकों ने इस पेड़ के जीवाश्म को मध्य प्रदेश के चित्रकूट इलाके में खोजा गया है। इस नवीन खोज से यह ज्ञात हुआ है कि आज के समय में पाय़ा जाने वाला बहुकोशिकीय जीवन हमारी सोच से बहुत पहले ही अस्तित्व में आ चुका था। हालांकि इससे पहले भी धरती पर इस तरह के जीवाश्म मिल चुके हैं,

जो पहले कि दुनिया के सबूत पेश करते हैं और ये सभी एकल कोशिकीय जीवों के थे। आपको जानकारी दे दे कि इससे पहले खोजे गए बहुकोशिकीय जीव करीब 60 करोड़ साल पहले के थे और इस नई खोज ने वनस्पति के इतिहास में नए आयाम स्थापित किए है। खास बात यह है कि शोधकर्ताओं को लाल शैवाल की तरह दिखने वाले दो जीवाश्म चित्रकूट में चट्टानों के नीचे काफी बेहतर अवस्था में मिले हैं। और इसका वो निरिक्षण करके उसकें बारे में जानकारी हासील कर रहें है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here