विंटर टिप्स: लंबे समय तक गर्म पानी से नहाने से नुकसान, आप इन गलतियों को सर्दियों में न करें,जानें

0

सर्दी का मौसम बदलते ही शरीर की जरूरतें भी बदल जाती हैं। ठंड के मौसम में फ्लू और संक्रमण से बचने के लिए, प्रतिरक्षा प्रणाली को बनाए रखना बहुत महत्वपूर्ण है। इन सभी बातों को जानने के बाद, लोग अपने स्वास्थ्य के साथ खेलने पर आमादा हैं। आइए हम आपको बताते हैं कि सर्दियों में अक्सर लोग कौन सी बड़ी गलतियां करते हैं।

लंबे समय तक गर्म स्नान

लंबे समय तक गर्म पानी से नहाना – जानकारों की मानें तो ठंड के मौसम में ज्यादा देर तक गर्म पानी का शॉवर लेना सेहत के लिए अच्छा नहीं होता है। यह हमारे शरीर और दिमाग दोनों को प्रभावित करता है। दरअसल, गर्म पानी केराटिन नामक त्वचा की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाता है, जिससे त्वचा में खुजली, सूखापन और चकत्ते की समस्या बढ़ जाती है।

बहुत ज्यादा कपड़े

बहुत ज्यादा कपड़े- सर्दियों में खुद को गर्म रखना अच्छी बात है, लेकिन आपको बहुत ज्यादा कपड़े पहनने से बचना चाहिए। ऐसा करने से आपका शरीर ओवरहीटिंग का शिकार हो सकता है। दरअसल, हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली ठंड लगने पर श्वेत रक्त कोशिकाओं (WBC) का उत्पादन करती है, जो हमें संक्रमण और बीमारियों से बचाती है। जबकि शरीर के गर्म होने पर प्रतिरक्षा अपना काम करने में असमर्थ होती है।

ज्यादा खाओ

अतिरिक्त भोजन – सर्दियों में, मानव की खुराक अचानक बढ़ जाती है और वह अपने स्वास्थ्य की परवाह किए बिना कुछ भी खाना शुरू कर देता है। दरअसल, ठंड की तुलना में, शरीर अधिक कैलोरी का सेवन करता है, जिसकी भरपाई हम हॉट चॉकलेट या अतिरिक्त कैलोरी वाले भोजन से करते हैं। ऐसे में अगर आपको भूख लगी है तो आपको फाइबर वाली सब्जियां या फल ही खाने चाहिए।

कैफीन

कैफीन- सर्दियों में चाय और कॉफी से शरीर को गर्म रखने का विचार अच्छा है। लेकिन शायद आप भूल रहे हैं कि बहुत अधिक कैफीन शरीर के लिए हानिकारक है। आपको दिन भर में 2 या 3 कप से ज्यादा कॉफी नहीं पीनी चाहिए।

पानी कम पिएं

कम पानी पीना – सर्दियों में लोगों को प्यास कम लगती है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि ठंड में शरीर को पानी की जरूरत नहीं है। पेशाब, पाचन और पसीने में शरीर से पानी बाहर निकलता है। ऐसे में पानी नहीं पीने के कारण शरीर डिहाइड्रेट होने लगता है। इससे किडनी और पाचन में कठिनाई बढ़ सकती है।

बिस्तर से पहले क्या करें

सोने से पहले क्या करें- एक शोध के अनुसार, रात को सोने से पहले हाथों और पैरों को दस्ताने से ढककर रखना और सेहत के लिए अच्छा होता है। नींद की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए यह नुस्खा बहुत फायदेमंद माना गया है।

सोने का समय

बेडटाइम रूटीन- इस मौसम में दिन छोटे हो जाते हैं और रातें लंबी हो जाती हैं। इस तरह की दिनचर्या न केवल सर्कैडियन चक्र को परेशान करती है, बल्कि शरीर में मेटालोनिन हार्मोन (स्लीपिंग हार्मोन) का उत्पादन भी बढ़ाती है। यह झपकी का कारण बनता है। सुस्ती उठती है। इसलिए सोने के समय में ही अच्छी नींद लेने की कोशिश करें।

बाहर जाने से बचें

बाहर जाने से बचें- सर्दियों के मौसम में ठंड से बचने के लिए ज्यादातर लोग घर से बाहर जाना बंद कर देते हैं। ऐसा करना सेहत पर भारी पड़ सकता है। घर में सिकुड़ने से आपकी शारीरिक गतिविधि खराब हो जाएगी। मोटापा बढ़ेगा और आप सूर्य की किरणों से विटामिन डी प्राप्त नहीं कर पाएंगे।

अभ्यास

व्यायाम- ठंड में तापमान कम होने के कारण लोग बिस्तर में सिकुड़ कर बैठ जाते हैं। जीरो फिजिकल एक्टिविटी के कारण हमारा इम्यून सिस्टम धीमा होने लगता है। इसलिए रजाई में बैठने के बजाय तुरंत साइकिल चलाना, टहलना या कोई कसरत शुरू करें।

स्वयं दवा

सेल्फ मेडिकेशन- इस मौसम में अक्सर लोग खांसी, जुकाम या बुखार से पीड़ित होते हैं। इस मामले में, डॉक्टर की परीक्षा के बिना स्व-दवा घातक हो सकती है। ये एक गंभीर बीमारी के लक्षण भी हो सकते हैं। इसलिए किसी भी दवा या नुस्खे को आजमाने से पहले डॉक्टर से जरूर सलाह लें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here