राम मंदिर भूमि पूजन: अयोध्या जाएंगे PM मोदी, जानें कब-कहां-कितने बजे क्या करेंगे ?

0
Ram Mandir Bhumipujan

जैसा की हम सब जानते है की आज अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज भूमिपूजन के साथ कई बड़े कार्यक्रम की शरुवात करेंगे । अब तक मिली जानकारी के अनुसार प्रधानमंत्री अयोध्या के लिए पहले ही निकल चुके है और कुछ है देर में लखनऊ पहुँच जायेंगे, उसके बाद वहां से अयोध्या के लिए वो दूसरे चॉपर में जायेंग। प्रधानमंत्री के आगमन को लेकर राज्य सरकारने सभी तरह की सावधानियां बरती है। हालांकि वहां को लोगो की ख़ुशी तो अयोध्या की सजावट में देखते ही बनती है, भूमिपूजन के लिए साडी अयोध्या को बहुत ही सुन्दर तरह से सजाया गया है मानो अयोध्या में तो आज ही दिवाली मनाई जा रही है। और मनाई भी क्यों ना जाये तक़रीबन 100 साल से जयादा की लड़ाई के बाद आज राम भक्तो के लिए खुशी का दिन आया है।

Ayodhya Ready For Ram Mandir Bhumi Pujan - राम मंदिर ...

आज के भूमिपूजन में प्रधानमंत्री के साथ तक़रीबन 175 आमंत्रित मेहमान शामिल होने के कयास लगाए जा रहे है , मेहमानो में कई साधु संत और बड़े नेताओ के इस भूमिपूजन में हो सकते है। लोकल लोगो का खाना है की करीब 100 साल से ज्यादा तक कानूनी और राजनीतिक लड़ाई के बाद आखिरकार रामलला के लिए आज राम मंदिर निर्माण का काम शुरू कर दिया जाएगा. बड़ी लड़ाई के बाद पिछले साल 9 नवंबर 2019 को सुप्रीम कोर्ट की 5 सदस्यीय संवैधानिक पीठ ने इसका फैसला राम लाला के पक्ष में सुनाया था। सुप्रीम कोर्ट के अनुसार सुन्नी वक्फ बोर्ड इस विवादित जमीन पर अपना मालिकान हक साबित नहीं कर पाया है,साथ ही पुरातत्व विभाग की ओर से दी गई रिपोर्ट में भी वहां राम मंदिर होने के प्रमाण पेश किए गए है। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने भी यह कहा कि पुरातत्व विभाग के पास भी इस बात का कोई प्रमाण नहीं है की क्या वहां पर किसी मंदिर को गिराकर मस्जिद बनाई गई थ। सुप्रीम कोर्ट ने कहा मुस्लिम पक्ष को विवादित स्थल से दूर 5 एकड़ जमीन मस्जिद बनाने के लिए देने का भी आदेश दिय। जिसकी जमीन के लिए राज्य सरकार को आदेश दिए गए थे।

Ram Mandir Photos अयोध्या में ऐसा होगा राम ...

हालांकि, भूमिपूजन के मोके पर ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के प्रमुख असदुद्दीन औवेसी ने बाबरी मस्जिद को याद किया है। उन्होंने कहा की सन 1528 में मुग़ल सम्राट बाबर ने अयोध्या में बाबरी मस्जिद की नीव राखी थी। जिसे 1992 में राम मंदिर सेवकों ने राम मंदिर आंदोलन में तोड़ दिया था। वैसी ने अपने ट्वीट में लिखा कि ‘बाबरी मस्जिद थी, है और रहेगी.’ ओवैसी की बात करे तो वो पिछले कुछ दिनों में भूमि पूजन की खबरों पर लगातार अपना विरोध जताया रहें है। कुछ समय पहले उन्होंने बाबरी विध्वंस के लिए कांग्रेस को भी जिम्मेदार ठहराया था। औवेसी ने खा था की “जिसका हक़ बनता है, उसे क्रेडिट दिया जाना चाहिए. आखिर वो राजीव गांधी ही थे, जिन्होंने बाबरी मस्जिद का ताला खोला था और वो पीवी नरसिम्हा राव ही थे, जिन्होंने प्रधानमंत्री के पद पर रहते हुए ये पूरा विध्वंस देखा था. कांग्रेस संघ परिवार के साथ विध्वंस के इस अभियान में हाथ में हाथ डाले खड़ी रही.”

Ram Mandir News: Asaduddin Owaisi Tweets Babri Masjid Zinda Hai ...

हलाकि औवेसी ने प्रधानमंत्री के भूमिपूजन में हिस्सा लेने को भी असवैधानिक बताया, उनके अनुसार ऐसा करना संवैधानिक शपथ का उल्लंघन होगा, धर्मनिरपेक्षता संविधान की मूल भावना है और ऐसा करना उसे ठेस पहुंचना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here