निवेश करने के लिए बेस्ट आप्शन मार्च में 12-15 कंपनियां लाएंगी आईपीओ, जुटाएंगी 30 हजार करोड़ रुपए

0

मार्च महीना आईपीओ के लिए गुलजार होने वाला है। इस महीने में कुल 12-15 कंपनियां आईपीओ ला सकती हैं। इसके जरिए ये 30 हजार करोड़ रुपए जुटा सकती हैं। अगर यह होता है तो किसी 1 महीने में हाल के सालों में यह पहली बार होगा। पहला आईपीओ एमटीएआर टेक्नोलॉजी का आएगा। यह 3 मार्च को खुलेगा।

कोरोना में शेयर बाजार गुलजार चालू वित्त वर्ष पूरी तरह से कोरोना का रहा है। लेकिन शेयर बाजार ने कोरोना को काफी पीछे छोड़ दिया है। शेयर बाजार जहां अपने अब तक के सबसे ऊपरी स्तर पर कारोबार कर रहा है, वहीं आईपीओ बाजार भी दम दिखा रहा है। इस साल के पहले दो महीनों जनवरी और फरवरी में अब तक 8 कंपनियों ने 12,720 करोड़ रुपए आईपीओ से जुटा ली हैं।

अगस्त से आईपीओ में तेजी आईपीओ को प्राइमरी बाजार कहा जाता है। यह पिछले साल अगस्त के बाद से दौड़ रहा है। ऐसा इसलिए क्योंकि शेयर बाजार में काफी पैसा आ रहा है। कॉर्पोरेट कंपनियों का प्रदर्शन अच्छा है। यही कारण है कि 2020 में आईपीओ से 43,800 करोड़ रुपए की रकम जुटाई गई है। पिछले साल इसी समय की बात करें तो एक भी कंपनी आईपीओ नहीं लाई थी।

मार्च वित्त वर्ष का अंतिम महीना मार्च चूंकि वित्त वर्ष का अंतिम महीना है। अगर मार्च तक आईपीओ नहीं आता है तो कंपनियों को फिर आईपीओ लाने के लिए मार्च तिमाही का भी डेटा देना होगा। इसलिए कंपनियां मार्च में पैसा जुटाना चाहती हैं। चालू वित्त वर्ष में जो भी आईपीओ आए हैं, निवेशकों ने हर में जमकर पैसा लगाया है। उनकी लिस्टिंग अच्छी हुई है तो निवेशकों को फायदा भी अच्छा हुआ है।

पहला आईपीओ 3 मार्च से एमटीएआर का आईपीओ 5 मार्च को बंद होगा। यह करीबन 600 करोड़ रुपए जुटाएगी। इसके बाद अनुपम रसायन, लक्ष्मी आर्गेनिक, सूर्योदय बैंक, बार्बीक्यू नेशन, नजारा टेक्नोलॉजी, आधार हाउसिंग फाइनेंस, कल्याण ज्वेलर्स, इंडिया पेस्टिसाइड आदि हैं। जिन 9 कंपनियों को अभी तक सेबी की मंजूरी मिल चुकी है उसमें इजी ट्रिप प्लानर्स, पुराणिक बिल्डर्स, अपीजय पार्क होटल, सूर्योदय बैंक, बार्बीक्यू, ईएसएएफ स्माल फाइनेंस बैंक और कल्याण ज्वेलर्स आदि हैं।

2 लाख करोड़ रुपए जुटाने की उम्मीद वैसे यह पूरा साल आईपीओ के नाम रहने वाला है। बड़ी-बड़ी कंपनियां आईपीओ लेकर आ रही हैं। कुल 2 लाख करोड़ रुपए आईपीओ से जुटने की उम्मीद है। विश्लेषकों का मानना है कि बाजार तेजी में है और विदेशी निवेशक लगातार पैसे लगा रहे हैं। साथ ही कॉर्पोरेट के रिजल्ट बेहतर हैं। कोरोना की वैक्सीन आने से भी अर्थव्यवस्था में तेजी के आसार हैं।इसी हफ्ते रेलटेल, न्यूरेका जैसी कंपनियों के आईपीओ बंद हुए हैं। उनकी लिस्टिंग इसी हफ्ते होगी। ग्रे मार्केट में ज्यादातर आईपीओ अच्छी कीमत पर कारोबार कर रहे हैं। ऐसे में निवेशक आईपीओ में पैसे लगाने में दिलचस्पी ले रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here