जानिये इंसानों ने वायेजर यान में दूसरी सभ्यता के लिए कितने संदेश भेजे है

0
99

जयपुर। नासा का वायेजर अंतरिक्ष यान एक ऐसा यान है जो सौर मंडल से 20 अरब दूर जा चुका है। यह पहला अंतरिक्ष यान है जो सौरमंडल के बाहर जाकर भी काम कर रहा है। इन यानों में दोनो वायेजर I तथा II में गोल्डन रिकार्ड रखा गया है जिससे अगर वह दूसरी सभ्यता में पहुँचता है तो उनके लिए एक संदेश दिया गया है। आपको बता दे कि गोल्डन रिकॉर्ड अंतरिक्ष यानो पर रखे गये फोनोग्राफ रिकॉर्ड है। इन रिकार्डो पर पृथ्वी के विभिन्न प्राणीयो की आवाजे और चित्र है। यह रिकार्ड परग्रही प्राणीयों के लिये है जो इन यानों कभी न कभी भविष्य मे देख सकते है।

आपको बता दे कि ये दोनो वायेजर यान विस्तृत अंतरिक्ष की तुलना मे बहुत छोटे है, किसी बुद्धिमान सभ्यता के द्वारा इन यानो को पाने की संभावना न्युनतम मानी जा रही है क्योंकि ये दोनो यान कुछ वर्षो बाद विद्युत चुंबकिय संकेत उत्सर्जन बंद कर देंगे। अगर भविष्य में यदि कोई परग्रही सभ्यता इन्हे खोज निकालेगी तब भी कम से कम 40,000 वर्ष बीत चूके होंगे जब वायेजर1 यान किसी तारे के समीप से गुजरेगा और दूसरी सभ्यता की नजर में अगर आ जायेगा तो। जानमकारी के  लिए बाते दे कि इस वायेजर गोल्डन रीकार्ड मे पहले ध्वनी संदेश मे  हिंदी, उर्दू सहित 55 भाषाओ मे दूसरी सभ्यता के लिए अभिनंदन संदेश है। दूसरे ध्वनी संदेश मे पृथ्वी की विभिन्न ध्वनियों का समावेश है जिसमे प्रमुख है।

ज्वालामुखी, भूकंप , बिजली की ध्वनी, वायू, वर्षा की ध्वनी, पक्षियो, हाथी की ध्वनी, व्हेल का गीत, मां द्वारा बच्चे के चुंबन, दिल की धड़कन आदी कई तरह कि ध्वनिया है। तीसरे संदेश मे विभिन्न संस्कृतियो के संगीत की ध्वनी है जिसमे सुश्री केसरबाई केरकर का राग भैरवी मे जात कहां हो  है और गायन मोजार्ट का संगीत है इसी के साथ ही वायेजर गोल्डन रिकार्ड के अगले भाग मे कार्ल सागन की पत्नि एन्न ड्रुयन के मष्तिष्क तरंगे की रिकार्डींग है। उसके अगले भाग मे ११६ चित्रो का समावेश है जिसमे सौर मंडल का मानचित्र, पृथ्वी का चित्र, सूर्य का चित्र, गणितिय और भौतिकि परिभाषाये, मानव शरीर के चित्र है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here