क्या है कैओस सिद्धांत से किसी घटना के लिए सटिक भविष्यवाणी कर सकते है ?

0
38

जयपुर। किसी भी सिद्धांत को हम किसी बिना प्रयोग के किये बिना नहीं मान सकते है इसके लिए कई प्रयोग करने पड़ते है और किसी चीज़ को सटिकता  से कहने के लिए उस साबित भी करना होता है। इसी तरह से यदि हमे किसी कण या पत्थर की स्थिति, संवेग, वायु का घनत्व, उसका वेग, पृथ्वी द्वारा लगाया गुरुत्वाकर्षण बल के  बारे में जानकारी हो और हम उस पत्थर को अंतरिक्ष से पृथ्वी पर फेंकते हैं तो क्या हम पत्थर के कहीं पर भी गिरने से पहले ही उसकी  सटीकतापूर्वक जगह बता सकते हैं कि वो पत्थर कहाँ पर गिरेगा?  अगर सिसी सिद्धांत को  लेकर हम इसकी जगह बताते है तो शायद हाँ,  

लेकिन व्यवहारिक रूप से सटीकतापूर्वक गिरने की नहीं बता सकते हैं। इसका कारण है कि छोटी प्रारंभिक अनियमिता और अनिश्चितता भी पत्थर की गति, स्थिति आदि को प्रभावित करके हमारी भविष्यवाणी को निरर्थक और अव्यवहारिक सिद्ध कर सकती है। इस उदाहरण से हम यह कह सकते है कि हम ग्रहों की गति और स्थिति की भविष्यवाणी करने में सक्षम हैं लेकिन लंबे अर्से के लिए नहीं यह सटिक ढंग से नहीं कहा जा सकता है। जानकारी के लिए बता दे कि आधुनिक गणित और विज्ञान की एक शाखा कैओस सिद्धांत , चिरसम्मत भौतिकी  की भविष्यवाणी संबंधी सीमाओं को इंगित करती है।

बता दे कि इस सिद्धांत के अनुसार अतिसूक्ष्म परिवर्तन भी बड़े पैमाने पर किसी क्रिया के परिणाम को प्रभावित कर सकता है। कैओस सिद्धांत के अनुसार मौसम की भविष्यवाणी कभी भी पूरी सटीकता के साथ नहीं की जा सकेगी। इस सिद्धांत के बारे में बात करते है कि इसके आरंभिक समर्थकों में से एक थे महान गणितज्ञ हेनरी पॉइंकारे इन्होंने एडवर्ड लोरेंज का मार्गदर्शन करते हुए कहा था कि प्रारंभिक स्थिति में हो रही छोटी सी असमानताएं भी अंतिम घटना में बहुत बड़ी असमानता उत्पन्न कर सकती है। इससे ज्ञात होता है कि किसी भी सिद्धांत से भविष्य की कोई भी घटना के बारे में सटिक ढंग से नहीं कहा जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here